Obesity

Now a day's Obesity is a major Problem in all over the World, so Firstly we know about what is Obesity, what Condition is called you Obese.

Question - What is Obesity ?

Answer - The state of being grossly fat or overweight. He or she is considered obese. If your Body Mass Index (BMI) is between 25 and 29.9 you are considered overweight. If your BMI is 30 or over you are considered obese.

Overweight and obesity are defined as abnormal or excessive fat accumulation that presents a risk to health. A crude population measure of obesity is the body mass index (BMI), a person's weight (in kilograms) divided by the square of his or her height (in meters. Overweight and obesity are major risk factors for a number of chronic diseases, including diabetes, cardiovascular diseases and cancer. Once considered a problem only in high income countries, overweight and obesity are now dramatically on the rise in low- and middle-income countries, particularly in urban settings.

Question - How to Measure BMI (Body Mass index)?

Answer - Body mass index (BMI) is a measure of body fat based on height and weight that applies to adult men and women.

BMI Categories:

BMI to weight (WHO)

BMI
Meaning
Below 18.5
Underweight
18.5 to 24.9
Healthy weight
25 to 29.9
Above ideal range
30 and above
Obese

 

Using the BMI calculator

Use the sliders on the calculator below to specify your height (in feet and inches) and weight (in either pounds or kilograms) and calculate your BMI.

  • You may also be interested in our BMR calculator and Waist to Hip ratio calculator
  • BMI formula

    BMI (kg/m2) = mass (kg) / height (m)2


    BMI chart

    BMI can also be determined using a chart that depicts BMI as a function of mass and height.


    Types of Obesity

    There are multiple classifications of Obesity.

    I. Depending on the area of fat deposition, there are three forms of obesity

    1. Peripheral : Accumulation of excess fat in the hips, buttocks and thighs.

    2. Central :  Accumulation of excess fat in the abdominal area.

    3. Combination :  of both peripheral and central obesity.

    Abdominal area is considered the most dangerous area for the accumulation of fat because it is closely located to the vital organs and their blood supply.

    II. Depending on the association with other diseases there are two types

    1. Type - 1 obesity : It is not caused by any disease. It is due to excessive intake of calories and lack of physical activity.

    2. Type - 2 obesity :  It is caused by a disease (like Cushing syndrome, hypothyroidism, polycystic ovarian disease, and insulinoma, are some internal secretion diseases). It accounts for less than 1% of obesity cases and is observed that there is abnormal weight gain with type-2 obesity even on little intake of food.

    III. Depending on the size and number of fat cells, obesity can be divided into

    1. Adult - type : In this type of obesity, only the size of fat cells is increased, it may happen mostly in middle age.

    2. Child - type :  In this type of obesity, the number of fat cells is increased. It is extremely difficult to reduce the number of fat cells which are already made.

    Obesity in Pregnancy -

    Maternal overweight and obesity is the most common high-risk obstetric condition and is associated gestational diabetes mellitus, hypertensive disorders, and newborn macrosomia, among other prenatal complications. Women who are already over-weight or obese before a first pregnancy tend to retain or gain more weight after pregnancy than average weight.

    If you are very overweight (usually defined as having a BMI of 30 or above) and pregnant, don't try to lose weight during your pregnancy, as this may not be safe. There is no evidence that losing weight while you're pregnant will reduce the risks.

    Children Obesity -

    Childhood obesity is a serious medical condition that affects children and adolescents. Children who are obese are above the normal weight for their age and height.

    Children become overweight and obese for a variety of reasons. The most common causes are genetic factors, lack of physical activity, unhealthy eating patterns, or a combination of these factors. Only in rare cases is being overweight caused by a medical condition such as a hormonal problem, Lack of Physical Activity.

    Question - How to Measure BMI (Body Mass index)?

    Answer -Calculate How Much You Should Lose - Change Your Eating Habits - Eat Regularly

    It's important to eat regularly and avoid skipping meals. If you skip meals, your body will store more fat than if you eat small, light, and nutritious meals throughout the day.
    Exercise Regularly
    If you are obese, you may think that exercise is something you cannot possibly do. However, a sedentary lifestyle is contrary to the weight loss tips you must follow. Start out by sitting and lying exercises, eventually working up to standing and moving exercises. This will help burn extra calories and speed your weight loss.
    Quit Eating Processed Foods
    Processed foods are full of preservatives, fat, salt, and sugars. Prepackaged frozen foods are easy to prepare, but are full of bad ingredients that are not advised in weight loss tips of professionals.
    Try Baking Instead of Frying
    The use of baking allows you to have tender vegetables and meats without the excess butter and oils. If you must fry, try using a lighter canola or sunflower oil.
    Stick to Natural Ingredients
    Fresh fruits and vegetables are filling and low in processed sugars and fats. Local farmer's markets are full of great buys like apples, peaches, lettuce, and spinach that will help you lose weight. And walking around those markets is a good form of exercise and an extra benefit.
    Try Natural Herbs
    Natural herbs such as green tea and aloe vera are regarded helpful in losing weight, controlling the storage of fat in the body.

    Question - How to reduce after Pregnancy Weight ?

    Answer - It is natural that you want to shed your pregnancy weight, but make sure you do it the right way. Instead of going on a crash diet, which can harm your baby's breastfeeding chances and also cause health complications, it is better to try and reduce weight more naturally and safely.

    1. Stay Hydrated
    2. Start Exercising
    3. Lower Your Stress Levels
    4. Dance
    5. Yogurt Dessert
    6. Drink Water Before You Have Your Meals
    7. Eat Early
    8. Give Yourself Time
    9. Shop Smart
    10. Avoid Caffeine And Alcohol
    11. Stay Motivated
    12. Baby Weight Training: Hold your baby closely and firmly to your chest and do a few lunges each day. Make sure you take your doctor's approval first.
    13. Get Your sleep

  • No, it is not possible to get eight straight hours of sleep when you are a new mom, but you should try and avoid being sleep deprived.
  • Homoeopathy Treatment -

    If your start all those above things but still your weight are not Reduce, so don't worry start A Homoeopathic Treatment, USE

    PHYTOCIN DROP -

    for Reducing Fat, Obesity, Tendency to put on weight, Obesity due to faulty endocrine disorders, Post Pregnancy weight gain, Budging of Figure around hip, Belly, & desire to eat frequently.

    मोटापा

    मोटापा आजकल सबके के लिए बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है,क्युकी इससे आपके शरीर का शेप बिगड़ जाता है और आप अच्छे नहीं दिखते है, आज कल हर के इंसान अच्छा दिखना चाहता है जब अत्यधिक शारीरिक वसा शरीर पर इस सीमा तक एकत्रित हो जाती है कि वो स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालने लगती है। तो उसे मोटापा कहते है |

    सवाल- मोटापे को कैसे पहचाने की आप मोटे हो रहे है ?

    आम तौर पर, वजन बढ़ने का सबसे आम लक्षण आदमी का मोटा दिखाई देना होता है। लेकिन मोटापे की वास्तविक नाप व्यक्ति के वजन और उसकी लंबाई के आधार पर ही की जाती है। आपकी लंबाई और वजन के आधार पर ही आपके मोटापे की श्रेणी में होने या न होने की जानकारी होती है। वैसे, व्यक्ति खुद में भी अपने शरीर में होने वाले बदलावों को महसूस कर सकता है। उदाहरण के तौर पर, चलते, सीढ़िया चढ़ते हुए या अन्य कोई भी शारीरिक गतिविधि करते समय साँस फूल जाना कमर के आस-पास अतिरिक्त चर्बी दिखाई देने लगना इत्यादि।

  • जिन कार्यो को आप पहले आसानी से कर लेते थे, अब उन्हें करने में सांसे फूलने लगी हों। रोजमर्रा के छोटे-छोटे कार्यों
        को करने में सांसे फूलने के साथ-साथ पसीना आने लगता हो।
  • यदि आपको नींद पहले के मुकाबले ज्यादा या कम आने लगी और साथ ही आपने खर्राटे लेने शुरू कर दिए हों,
         तो यह भी मोटापे की शुरुआत के लक्षण हो सकते हैं।
  • एक सीमा के बाद शारीरिक, मानसिक परिवर्तनों की वजह से व्यक्ति को नियमित रूप से सोने में परेशानी होने लगे।
  • आपको अपने रोज मर्रा के कार्यों को करने में, अरुचि और शिथिलता महसूस होने लगी हो। थकावट ज्यादा होने लगी हो।
  • यदि थोड़ा सा भी वजन उठाने में, बहुत ज्यादा थकावट होने लगी हो और साथ ही कमर, जोड़ों और के
         अन्य हिस्सों में दर्द महसूस होने लगा हो।
  • सवाल - कैसे पता करे शरीर पर जमा चर्बी को ?

    जिस तरह ब्लड प्रेशर नापने के लिए ब्लड प्रेशर मशीन होती है उसी तरह वज़न की जाँच करने के लिए ‘’बॉडी मास इंडेक्स’’ होता है ‘बॉडी मास इंडेक्स’ से हम शरीर पर जमी चर्बी का पता लगा सकते है बॉडी मास इंडेक्स की गड़ना हम ऊचाई को मीटर में मापते है
    (उदहारण-172 सेंटीमीटर = 1.72 मीटर)= 1.72 मीटर

    इस अंक का गुड़ा इसी से करे = 1.72 मीटर X 1.72 मीटर = 2.96 मीटर अपना वज़न किलोग्राम में मापे = 70 किलो

    फिर वज़न का भाग = 2.96 से करे जो जो बॉडी मास इंडेक्स की ऊचाई को गुड़ा करने पर उत्तर आया था,
          70 ÷ 2.96 = 23.64 Kg/ m2

    मोटापे के प्रकार ?

    डायबेसिटी

    डायबिटीज और ओबेसिटी से मिलकर बना है। वहीं, डायबिटीज और ओबेसिटी भी आपस में एक-दूसरे से जुड़े हैं। मोटापे से ग्रस्त लोगों को डायबिटीज होने का ज्यादा रिस्क रहता है। कुछ मरीज ऐसे भी होते हैं, जिन्हें ये पता ही नहीं होता कि उन्हें टाइप 2 डायबिटीज है ।

    ग्लैण्डुर ओबेसिटी

    मोटापा शरीर के कुछ अंगों पेट, जांघ, हाथ, नितम्ब, कमर आदि को अनावश्यक रूप से फुलाते हुए अपने आस-पास के अंगों को दबाता चला जाता है, इस तरह यह पूरे शरीर को अपने कब्जे में ले लेता है । फ्रोलिच मोटापा इस प्रकार का मोटापा भी बचपन में ही देखने को मिलता है, यह अकसर मस्तिष्क में उत्पन्न ट्यूमर के कारण होता है। फ्रोलिच टाइप का मोटापा वक्ष, पेट व नितंबों को प्रभावित करता है। इस मोटापे में व्यक्ति के शरीर का विकास कम होता है ।

    हाइपोथैलमिक ओबेसिटी

    दिमाग में हाइपोथैलमिस अंग होता है, जिससे भूख का पता चलता है। यही नींद को भी नियंत्रित करता है। ब्रेन ट्यूमर, चोट लगने या किसी कारणवश यदि यह अंग प्रभावित हो तो न्यूरो हार्मोन में परिवर्तन आता है। मोरबिड ओबेसिटी मोरबिड ओबेसिटी उस स्थिति को कहते हैं जब बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की रेटिंग 40 से अधिक हो जाती है। यह स्थिति धीरे-धीरे शुरू होती है और समय के साथ शरीर का वजन बढ़ता जाता है |

    कुशिंग सिण्ड्रोम

    इस प्रकार का मोटापा मुख्यतः ऐड्रोनल ग्रंथि के सूज जाने या उसमें ट्यूमर निकलने, ऐड्रोनल ग्रंथि से हार्मोन अधिक मात्रा में निकलने के कारण होता है। इसके इलाज के लिए समय रहते डॉक्टर से सलाह लें। इस तरह के मोटापे का पता नहीं चलता है।

    गर्भावस्था में मोटापा ?

    वजन बढ़ना हेल्दी प्रेगनेंसी का हिस्सा है। अगर आप ज्यादा मोटी हैं, तो गर्भावस्था में आपका वजन उस महिला की तुलना में जिसकी एक स्वस्थ वजन के साथ प्रेगनेंसी शुरू हुई है तीन गुना बढ़ सकता है। अगर आपका वजन कम है या आपका बीएमआई 18.5 से कम है, तो प्रेगनेंसी में आपका वजन 12 से 18 किलो बढ़ सकता है। अगर आपका बीएमआई 18.5 से 24.9 यानि नॉर्मल रेंज में है, तो आपका वजन 15 से 18 किलो बढ़ सकता है। अगर आपका वजन ज्यादा है यानि बीएमआई 30 से ज्यादा है, तो आपका वजन 5 से 9 किलो से ज्यादा नहीं बढ़ेगा।

    गर्भावस्था में महिलाओं का वजन बढ़ना स्वाभाविक है। इस दौरान बच्चे का वजन, एमनियोटिक फ्लूड और ब्लड वॉल्यूम बढ़ने व गर्भाशय के बढ़ने से वजन बढ़ ही जाता है। दो से चार किलो वजन ब्रेस्टफीडिंग और डिलीवरी के लिए जमे फैट से बढ़ जाता है। हालांकि कुछ महिलाओं का गर्भावस्था के दौरान वजन ज्यादा बढ़ जाता है।

    जिस तरह गर्भावस्था के दौरान बदलाव होते है उसी तरह प्रसव के बाद भी बदलाव होते है

    मोटापा कम कैसे किया जाये –

    सबसे पहले हमने खाना खाने के तौर तरीकों को सीखा, यह डाईट शुरू करने के पहले की बात है। हम लोग जल्दबाजी में फटाफट खाना खा लेते हैं, खा लेते हैं यह कहना सही नहीं होगा, हम गटक लेते हैं। जिससे हमारे शरीर को पोषक तत्व मिल ही नहीं पाते हैं और खाने के पोषक तत्व हमारा शरीर पहचान नहीं पाता है और वह मल के द्वारा बाहर निकल जाते हैं।

    हमारे शरीर की आंतरिक मशीन न परांठो को पहचानती है और न ही सब्जी को, हम कहते हैं कि फलाना सब्जी हमारी पसंदीदा है, परंतु वह केवल हमारे स्वाद के कारण होता है जबकि हमारी पाचन ग्रंथियाँ किसी भी खाने को नहीं पहचानती हैं, हमारी पाचन ग्रंथियाँ खाने से केवल एन्जाईम लेती हैं, और एन्जाईम सही तरीके से तब बनता है जब हम खाने के कौर को मुँह में रखकर पूरे बत्तीस बार चबाते हैं और हमारी लार उस खाने के कौर में मिलकर हमारी पाचन ग्रंथियों तक पहुँचती है। अगर हम खाने को चबायेंगे नहीं तो हमारा खाना हमारे पेट में बिना पहचाने जाने वाले तत्व के रूप में पहुँच जाता है और हमारे शरीर की मशीन इस प्रकार के पदार्थ को देखकर अचंभित रह जाती है और फिर भी जितना एन्जाईम ले सकती है लेती है और बाकी को अवशिष्ट मानकर मल की और भेज देती है।

    बत्तीस बार चबाकर खाना चाहिए

    बच्चो में मोटापा कम कैसे करे ?

    आजकल बच्चे मैदान में कम और कंप्यूटर के सामने ज्यादा नजर आते हैं। खाने में उन्हें जंक फूड ज्यादा पसंद आता है। नतीजा, कम उम्र में ही उन पर मोटापा असर दिखाने लगता है। बच्चों की ऐसी तस्वीरें परेशान करने वाली हैं और भविष्य में होने वाले बड़े संकट की ओर इशारा भी कर रही हैं।

  • बाहर के गेम खेलने को कहे ताकि उसकी एक्टिविटी बड़े
  • जैसे क्रिकेट, फुटबाल, साइकल चलवाये जिससे उसे मज़ा भी ए और खेल-खेल में उसकी अतिरिक्त कैलोरी भी बर्न हो जाये
  • एक्सरसाइज के फायदे बताये
  • जंक फ़ूड से दूर रखे
  • हेल्दी खाना दे उसमे कुछ अलग ज़ायका डाल दे ताकि बच्चे को पसंद आये
  • पैकेट बंद खाना न दे
  • शुरू से ही आदते डाले
  • स्कूल के गेम्स में बढ़चढ़कर हिस्सा लेने दे
  • ज़्यादा पढ़ाई का बोझ न डाले
  • ज़्यादा देर तक टी.वी.कम्प्यूटर पर न बैठने दे
  • खुली में रहना सिखाये
  • या कोई जानवर घर में पाल ले जिसे उससे बाहर घूमने को कहे
  • प्रसव के बाद ज़्यादा चर्बी का क्या करे ?

  • सबसे पहले खुद को तनाव मुक्त रखे में कैसी लग रही हूँ
  • भद्दी लग रही हूँ खुद से प्यार करे, खुद के लिए समय निकाले, घूमने जाये
  • ज़्यादा पानी का सेवन करे ताकि अतिरिक्त चर्बी पिघले नींद पूरी करे
  • स्तनपानपान कराये क्युकी उससे आपकी 600-800 कैलोरी बर्न होती है और आप वज़न में खुद कमी महसूस करेंगी
         प्रेग्नेंसी के बाद ज़्यादा भूख लगती है एक बार में ज़्यादा न खाये कई हिस्सों में बाँट ले
  • तीन बार की जगह छे हिस्सों में अलग-अलग थोड़ा-थोड़ा खाये
  • खुली हवा में खुलकर साँस ले आखिर एक औरत एक जंग ही तो जीत ती है
  • जब वो एक जान को जनम देती है
  • उसका में अपने आप में एक नया जन्म होता है
  • ईश्वर ने कितना बड़ा तोहफा दिया है एक औरत खुश रहे
  • योग, एक्सरसाइज,करे
  • होमियोपैथी उपचार-

    फाइटोसिन ड्राप (Phytocin Drops) - अगर ये सब कर भी थक चुकी है तो साथ में होमियोपैथी की ये ड्राप भी ले इससे शरीर में जमी अतिरिक्त चर्बी पिघलने लगती है इससे कोई भी ले सकता है आदमी,औरत,या बच्चा, कूल्हों के पास या कही भी जहा एक्स्ट्रा वसा जमा हो वो ठीक हो जाता है